महा सचिव

डॉ. रवि पी. सिंह भारत सरकार के उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के स्वतंत्र संगठन भारतीय गुणवत्ता परिषद के चौथे महासचिव हैं। वे नेशनल एक्रेडिटेशन बॉडी (राष्ट्रीय प्रत्यायन निकाय) के प्रमुख हैं, जिसे शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, कौशल प्रशिक्षण, निर्माण आदि सहित सभी क्षेत्रों में उत्पादों, प्रक्रियाओं और सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार करने का अधिकार है।

महासचिव के रूप में नियुक्त होने से पहले, डॉ. सिंह ने इग्नू में क्षेत्रीय सेवा प्रभाग के निदेशक और फिर दिल्ली में वरिष्ठ क्षेत्रीय निदेशक के रूप में कार्य किया। डॉ. सिंह पूर्व में ग्रेटर नोएडा में शारदा विश्वविद्यालय के संस्थापक कुलपति थे। वे पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय से प्रतिनियुक्ति (ग्रहणाधिकार) पर इस पद पर आए, जहां उन्होंने 2003-2009 तक डीन के रूप में काम किया।

डॉ. सिंह ने 1996 में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद में सहायक निदेशक के रूप में अपना करियर शुरू किया और वे वहां 2003 तक उप निदेशक के रूप में थे। उन्होंने 1996-1999 के दौरान कानपुर में उत्तरी क्षेत्रीय कार्यालय के क्षेत्रीय अधिकारी और बाद में 2000-2001 के दौरान कोलकाता में पूर्वी क्षेत्रीय कार्यालय के क्षेत्रीय अधिकारी जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है। वे 1996 से अकादमिक प्रशासक रहे हैं और उन्होंने नीति नियोजन, एक्रेडिटेशन (प्रत्यायन), कक्षा शिक्षण में आईसीटी के उपयोग, लचीले क्रेडिट-आधारित प्रणाली कार्यान्वयन, अनुसंधान और विकास में असाधारण योगदान दिया है।

क्यूसीआई में सितंबर 2014 से, डॉ. सिंह ने जमीनी स्तर पर गुणवत्ता हस्तक्षेप के लिए विभिन्न नवीन योजनाओं और परियोजनाओं की शुरुआत की है। उनके नेतृत्व में, क्यूसीआई ने राजस्व और मानव संसाधन में 10 गुना से अधिक की वृद्धि की है। उन्होंने सभी एक्रेडिटेशन (प्रत्यायन) निकायों को एक छत के नीचे लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कई योजनाएं और परियोजनाएं भी शुरू की हैं, जिनमें स्वच्छ सर्वेक्षण, आयुष्मान भारत, GeM में आभासी मूल्यांकन, गैर-बिजली ग्राहकों के लिए कोयला परीक्षण, जीरो डिफेक्ट जीरो इफेक्ट (जेड) मैचुरिटी (परिपक्वता) मॉडल, स्कूल मान्यता और कई अन्य में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। डॉ. सिंह अपने संस्थान निर्माण कौशल, वाक-पटुता, स्पष्ट विचारों और प्रशासनिक क्षमताओं के लिए जाने जाते हैं। वह सरकार के साथ-साथ उद्योग में विभिन्न बोर्डों और समितियों के सदस्य हैं और बड़े पैमाने पर यात्रा करते हैं।

वाराणसी में जन्मे डॉ. सिंह ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातक और परास्नातक किया। वे भौतिकी में परास्नातक स्तर पर स्वर्ण पदक विजेता रहे और 1989-1995 के दौरान कनाडा के पश्चिमी ओंटारियो विश्वविद्यालय से संघनित पदार्थ में पीएचडी और पोस्ट-डॉक्टरेट कार्य किया।

QCI © 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित
7Techies के द्वारा प्रबंधित
आखरी अपडेट: 10अगस्त 2022.